इश्क़ में एक और मौत

चित्र
सारांश इश्क़ का परिणाम किसी के लिए सुखद होता हैं तो किसी के लिए दुःखद होता तो कोई सिर्फ राधा की तरह इश्क़ करता हैं... इस कहानी की शुरुआत एक यंग लडके सें होती हैं जो जवानी के दौर में अपने सपने साकार करने मुंबई की फ़िल्म इंडस्ट्री में जाता हैं काफ़ी स्ट्रेगल के बाद उसे फ़िल्म इंडस्ट्री की नामचीन हीरोइन के प्रोडक्शन हॉउस में असोसिएट डाइरेक्टर की नौकरी मिल जाती हैं और फिर इश्क़ की कहानी की शुरुआत होती हैं इस कहानी में कैसे होता हैं इश्क़ का इज़हार और क्यों होती हैं तकरार... अंत में लडके को हीरोइन की चिता क्यों जलानी पड़ती हैं कैसे इश्क़ की मौत होती हैं इन्ही सब बातों को जानने के लिए पढ़िए शब्द.In पर इश्क़ में एक और मौत...! में.. 🅰️🅰️🅰️🅰️🅰️🅰️🅰️🅰️🅰️🅰️ # इश्क़ में एक और मौत मैने मेकअप रूम के दरवाजे को नॉक किया था, कि तभी अंदर से लीना मेम की आवाज़ आई.... कौन हैं....? मेम मैं सुमित.... आपको सीन समझाने आया हूं मेम.... ! ओह सुमित अंदर आ जाओ डोर खुला हैं... जी मेम.... इतना कहते ही मै दरवाजे को धकेलता हुआ अंदर दाखिल हो गया था... रूम तक पहुंचने के लिए एक 5×3 की गैलरी थी जिसके आगे चल

OTT कैसे शुरू करें पार्ट -2

OTT कैसे शुरू करें...?
 ये जरूरी नहीं कि आप इसे मनोरंजन तक ही सिमित रखें आप चाहे तो निम्नलिखित सेवाओं से भी अपना OTT लॉन्च कर सकते हैं.. और इन से भी लाभ कमा सकते हैं ये ऐसे चार उदाहरण हैं जहां निर्माता अपनी ओटीटी सेवाओं में  भारी वृद्धि देखते हैं और, यदि आप इनमें से किसी एक में भी रूचि रखते हैं, तो आप बड़े फायदे भी देख सकते हैं...

1. फिटनेस
क्या आप फ़िटनेस वीडियो बनाते हैं जिन्हें लोग डिवाइस पर डाउनलोड कर सकते हैं, या टीवी के सामने प्रदर्शन कर सकते हैं? इसके लिए बहुत बड़ा बाजार है....जिसमें ग्राहक अपने पसंदीदा, भरोसेमंद, ऑनलाइन प्रशिक्षकों द्वारा बनाए गए इन पाठ्यक्रमों और उत्पादों के लिए अपनी जिम सदस्यता, या व्यक्तिगत प्रशिक्षण के लिए आतुर हों जाता हैं 

2. शिक्षा
क्या आप अपने ऑनलाइन वीडियो पाठ्यक्रमों के माध्यम से लोगों को कौशल सीखने में मदद करते हैं? ओटीटी सेवाएं डाउनलोड करने योग्य वीडियो और शिक्षण सामग्री के साथ व्यापक पाठ्यक्रम बनाने में आपकी मदद कर सकती हैं।

3. योग:
क्या आप लोगों को योग सीखने में मदद करने के लिए वीडियो या पाठ्यक्रम बनाते हैं? यदि हां, तो ओटीटी सेवाएं छात्रों को जब भी और कहीं भी हों, उनके प्रवाह को खोजने में मदद कर सकती हैं...

4. मनोरंजन
क्या आप लोगों का मनोरंजन करने के लिए शो या फिल्में बनाते हैं? खैर, ओटीटी सिर्फ नेटफ्लिक्स जैसे बड़े खिलाड़ियों के लिए नहीं है.. यहां आप अपनी रचनाओं और अभिव्यक्ति से भी सफल हो सकते हैं  अगर आपके पास बताने के लिए कहानियाँ हैं, तो यह आपके काम आ सकती है..

अगर सही तरीके से किया जाए तो ओटीटी सेवाएं लगभग किसी भी व्यवसाय और उद्योग के लिए काम कर सकती हैं.. लेकिन यह वह जगह है जहां हम राजस्व और दर्शकों में सबसे बड़ी वृद्धि देखते हैं...यदि आप इसे व्यवसायिक मॉडल को लेकर शुरू करते हैं तो और भी बेहतर हैं...

और यदि आप सही बिजनेस मॉडल चुनकर शुरू करे तो इन बातों को भी ध्यान में रखें 

ओटीटी सेवाएं दो अलग-अलग प्रकार के बिजनेस मॉडल, ट्रांजेक्शनल और सब्सक्रिप्शन पर काम करती हैं..

आपका उत्पाद तय करेगा कि आप किस व्यवसाय मॉडल का उपयोग करते हैं, और उनमें से प्रत्येक
अपने फायदे और नुकसान के साथ आता हैं...आइए प्रत्येक पर बारिकी से नज़र डालते हैं

अक्सर हम देखते हैं कि हमारे आसपास कई लोग हैं जो अपने हांथो की निर्मित वस्तुओं को बाजार में बेचते हैं.. जिसका उन्हें सही मूल्य नहीं मिल पाता हैं.. आप ऐसे लोगों की वस्तुओं का मॉडल के माध्यम से प्रदर्शित कर सकते हैं... कई ऐसे लोग भी हैं जो किसी चीज का कौशल प्रशिक्षण देते हैं आप उनके भी छोटे छोटे वीडियो बना कर अपने OTT पर ला सकते हैं जिसके लिए आपको अपनी अगली बिक्री करने के लिए लगातार ग्राहकों की तलाश करनी होगी... मार्केटिंग कभी रुकती नहीं है और एक बार रूपांतरित होने के बाद, आपको दूसरी बार बिक्री करने के लिए नए उत्पाद बनाते रहने होंगे...और ऐसे ग्राहकों को आप स्लॉट बेच कर पैसा कमा सकते हैं...

अब तक आपको यह स्पष्ट रूप से समझ में आ गया होगा कि आपको अपनी ओटीटी सेवा कैसे (और क्यों) शुरू करनी चाहिए।

आपके पास ऐसे बड़े दर्शकों तक पहुंचने की क्षमता को बढ़ाते हुए कदम दर कदम बढ़ते रहना होगा.. और नए नए आयामों से लोगों का ध्यान आकर्षित करना होगा...

OTT निर्माण पर व्यय

ऑल इंडिया OTT ब्रॉडकास्ट 2लाख 50 हजार के लगभग 

ऑल वर्ल्ड OTT ब्रॉडकास्ट 3 लाख 50 हजार के लगभग 

OTT स्वामित्व के लिए आवश्यक दस्तावेज आधार कार्ड और पैन कार्ड जरूरी होता हैं साथ ही आपको बैंक डिटेल भी देनी होती हैं जिसके माध्यम से पेमेंट का लेनदेन होता हैं OTT प्लेटफॉर्म डिज़ाइनिंग में लगभग 10 से 12 दिन का समय लगता हैं...

आपको अपने चेंनल का नाम बतलाना होता हैं जिसके डिज़ाइनिंग आदि का व्यय अतरिक्त नहीं होता हैं आपको आपके OTT पर फ़िल्म, वेबसीरीज, टीवी धारवाहिक, गीत और लघु फ़िल्म के लिए अलग अलग फॉर्मेट असीमित सर्वर के साथ उपलब्ध रहते हैं...

हमारे देश में कई सॉफ्टवेयर कम्पनिया हैं जो विश्वशनीय OTT मोहईया कराती हैं...

(लेख एक्सपर्ट से चर्चा और गूगल के विभिन्न स्त्रोतो के आधार पर हैं )

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कोट्स-ए-दास्तां

आधार की जंग (व्यंग)

OTT कैसे शुरू करें..? पार्ट -1